लाहौल-स्पीति और पांगी में बर्फबारी जारी, तेज हुई शीतलहर

0
85

शिमला । हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिले लाहौल-स्पीति में रुक-रुककर बर्फबारी का क्रम जारी है। यहां बीते दो दिनों से लगातार हिमपात हो रहा है। रोहतांग, कोकसर और केलंग सहित उंचाई वाले क्षेत्रों में कई इंच बर्फबारी हो चुकी है। बर्फबारी से रोहतांग मार्ग पर वाहनों की आवाजाही बंद हो गई है तथा लाहौल घाटी का संपर्क शेष विश्व से कट गया है। इस बर्फबारी से इलाके में जनजीवन अब अस्त-व्यस्त होना शुरू हो गया है। रोहतांग दर्रे पर वाहनों की आवाजाही बंद है और लाहौल घाटी का सड़क सम्पर्क शेष विश्व से कट गया है। लाहौल में अन्दरूनी सड़कों पर भी बस सेवाएं बंद है और छोटे वाहन चलाना भी जोखिम भरा हो गया है। हालांकि पिछले लंबे समय से हिमपात न होने पर चिंतित किसानों के चेहरों पर खुशी लौट आई है और हिमपात को कृषि के लिए फायदेमंद मान रहे हैं। इधर, चंबा जिले के पांगी व भरमौर में भी रुक-रुककर हिमपात हो रहा है। किलाड़ में करीब डेढ़ से दो फुट तक हिमपात दर्ज किया गया है जबकि घाटी के उंचाई वाले क्षेत्रों सुराल, हुडान, कुमार, परमार, भटौरी, सेचू व चस्क भटोरी में भी एक फुट से अधिक हिमपात का समाचार है। पांगी के आवासीय आयुक्त कर्म सिंह चौधरी के मुताबिक इस सीजन में घाटी का ये पहला भारी हिमपात हुआ है और कई स्थानों पर गलेशियर खिसकने की आशंका के चलते उन्होंने लोगों को ऐसे मौसम में घरो से बाहर न निकलने की सलाह दी है। हालांकि किन्नौर, कुल्लू और शिमला व आसपास के इलाकों में सुबह से बादल छाए रहे और ठंडी हवाएं चलती रही। किन्नौर जिले का कल्पा राज्य में सबसे ठण्डा स्थल रहा। यहां न्यूनतम तापमान माइनिस 3.8 डिग्री सेल्सियस रहा। इसके अलावा लाहौल-स्पीति के केलंग में माइनिस 3.1, मनाली में 3, सुंदरनगर में 3.1, भुंतर में 3.4, सोलन में 4, शिमला में 4.2, उना में 7, नाहन में 8.4 और धर्मशाला में 9.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों में उंचाई वाले इलाकों में भारी हिमपात या वर्षा जबकि निचले मध्यम इलाकों में कई स्थानों पर वर्षा की संभावना जताई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here