Paytm के फाउंडर विजय शेखर ने कंपनी को लेकर किया यह बड़ा दावा

0
90

नई दिल्ली । कालाधन और आतंकवाद पर अंकुश लगाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नंवबर को नोटबंदी के तहत 500 और 1000 रुपये के नोट बंद करने का अचानक एलान कर दिया। इसके बाद नौ व दस नवंबर को बैंक व एटीएम को बंद रखने की घोषणा कर दी। उस समय देश की जनता और व्यापारियों को यह नहीं सूझ रहा था कि वह कैसे अपनी रोजी-रोटी करें? एटीएम की जगह पेटीएम लोगों के लिए विकल्प बनकर उभरा। आने वाले समय में देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में पेटीएम बहुत बड़ी भागीदारी निभाने वाला है। इन्हीं तमाम बिंदुओं पर पेटीएम संस्थापक और सीईओ विजय शेखर शर्मा से विस्तृत बातचीत की। प्रस्तुत है प्रमुख अंश :

आपको पेटीएम का ख्याल कब और कैसे आया?

-2001 में वन 97 कम्यूनिकेशन नाम की कंपनी बनाई थी। मोबाइल कंटेंट के रूप में बाजार में एंट्री हुई थी। विदेश यात्रा के दौरान मैंने स्मार्ट फोन की सुविधाओं को जाना। इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने की बात सोची। इसे जीरो शुल्क पर लोगों को उपलब्ध कराने की योजना बनाकर 2011 में पेटीएम कंपनी बना डाली।

आपने उपभोक्ताओं को कैसे आकर्षित किया?

-घर बैठे फोन रिचार्ज, मूवी टिकट, रेल, बस, हवाई जहाज का टिकट बुक करने की सुविधा उपलब्ध कराई। इस दौरान वह पेटीएम के माध्यम से भुगतान करने आए। धीरे- धीरे कंपनी पर उपभोक्ताओं का विश्वास बढ़ा।

पेटीएम वॉलेट क्या है?

-पेटीएम ई-वॉलेट है, जो आपके बैंक खाते से जुड़ जाता है। जितना पैसा आप बैंक से निकाल कर खर्च करना चाहते हैं, उतना वॉलेट में डाल सकते हैं। पैसा वापस खाते में डालना है, तो भी आसानी से इसे वापस ले सकते हैं।

वॉलेट में रखा व्यक्ति का पैसा कितना सुरक्षित है?

-पेटीएम ने एस्क्रो अकाउंट खोल रखा है। यह सीधे आरबीआइ की निगरानी में है। इसमें पेटीएम वॉलेट पर आने वाला पैसा सीधे आइसीआइसीआइ बैंक में चला जाता है। मैंने बैंक में क्रेडिट के तौर पर एडवांस राशि जमा करा रखी है।

पेटीएम वॉलेट का क्या चार्ज है?

-वॉलेट इस्तेमाल पर उपभोक्ताओं से किसी भी प्रकार का चार्ज कंपनी नहीं लेती है, लेकिन इसमें मर्चेट को प्लेटफार्म से सामान बेचने और उपभोक्ता को खरीदने की सर्विस जीरो फीसद पर उपलब्ध कराई जा रही है।

फिर पेटीएम को कमाई कैसे होती है?

-कंपनी अपने मर्चेट से कमाई करती है, जैसे बुक माई शो, मूवी टिकट, रेल, बस, एयर टिकट, बिल का भुगतान, ई-कॉमर्स साइट पर खरीदारी के जरिए जो कंपनी अपना माल बेचती है, उससे कमीशन मिलता है।

पेटीएम के पास कितने यूजर हैं?

-कंपनी के पास इस समय 17.30 करोड़ से अधिक यूजर हैं। इसमें से 8.80 करोड़ यूजर नोटबंदी के बाद वॉलेट के जरिए जुड़े हैं।

कंपनी का टारगेट ऑडियंस कौन हैं?

-कंपनी की टारगेट आडियंस देश का छोटा व्यापारी है, जिन्हें पेटीएम वॉलेट से जोड़ा जा रहा है। इसके लिए उनसे कोई शुल्क चार्ज नहीं किया जाता है।

कंपनी का लक्ष्य क्या है?

-पेटीएम से 32 लाख मर्चेट जुड़ चुके हैं। मार्च 2017 तक 50 लाख मर्चेट को पेटीएम के साथ जोड़ना है।

टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन और मैन पॉवर में कितनी बढ़ोत्तरी की गई?

-करीब 65 करोड़ रुपये टेक्नोलॉजी की अपग्रेडेशन पर खर्च किया गया है। पहले मैनपावर 6500 था, अब 12 हजार हो चुका है। पहले 10 हजार शंकाएं व सवाल आते थे, प्रतिदिन करीब 1.25 लाख लोगों के सवालों का जवाब दिया जा रहा है।

कितने लोग पेटीएम वॉलेट से ट्रांजेक्शन करते हैं?

-औसतन 2500 ट्रांजेक्शन प्रति सेकेंड (टीपीएस) का लोड है। शाम को पांच से आठ बजे के बीच 7000 टीपीएस के पार चला जाता है। हमारा रिकार्ड 35000 टीपीएस का है।

चीनी कंपनी अली बाबा की कितनी हिस्सेदारी है?

-पेटीएम के पास पेमेंट और ई-कॉमर्स दो कंपनी हैं। पेमेंट में अली बाबा का हिस्सा नहीं है। ई-कॉमर्स में डिजिटल और फिजिकल दो डिविजन हैं। अली बाबा ने ई-कॉमर्स के फिजिकल डिविजन में सौ फीसद एफडीआइ लगाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here