कानपुर । यह तो प्रदेश की राजनीति के साथ उलझते-सुलझते रिश्तों की बहुत साफ तस्वीर है। कल तक शरमाती, झिझकती, हिचकती नजर आने वाली समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की बहू डिंपल यादव कल सिर्फ अखिलेश यादव की आत्मविश्वास से भरी जीवनसंगिनी और सियासी हमसफर के रूप में नजर आईं। कानपुर के साथ ही उन्नाव की जनसभाओं में डिंपल की जुबां पर एक बार भी ‘नेताजी’ का न आना बेवजह तो नहीं समझा जा सकता।यह कानपुर-बुंदेलखंड का क्षेत्र है। इस जमीं ने सूबे के सबसे बड़े सियासी परिवार के कई पौधों को बड़ा होते देखा है। खुद पहलवान मुलायम सिंह यादव और फिर उनके बेटे अखिलेश यादव को राजनीति का सूरमा बनते देखा है।डिंपल यादव को भी इसी क्षेत्र के कन्नौज ने दिल्ली के दरबार तक पहुंचाया। पिता से ही विरासत में मिली यह सीट अखिलेश ने डिंपल को सौंपी। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव हों या सांसद डिंपल, शायद ही ऐसा हुआ हो, जब किसी भी कार्यक्रम के मंच से बार-बार मुलायम सिंह यादव का नाम न लिया गया हो। मगर, कल कानपुर, उन्नाव, झींझक आदि जगह हुईं सभाएं एक बात की ओर बार-बार ध्यान खींचती हैं। डिंपल ने एक स्थान पर बेशक यह कह दिया हो कि परिवार में कोई फूट नहीं है। सभी बड़ों का आशीर्वाद मुख्यमंत्री के साथ है, लेकिन एक बार भी ‘नेताजी’ का नाम न लेना तो इशारा यही करता है कि राजनीतिक मसलों को लेकर उठी खटास का असर अभी रिश्तों में रह गया है।पारिवारिक संघर्ष में डिंपल अपने पति अखिलेश के साथ ही मजबूती से खड़ी हैं।यही नहीं, डिंपल के हाव-भाव और अंदाज से यहां ये भी जाहिर किया कि संघर्ष में मजबूत होते अखिलेश के साथ उनका भी आत्मविश्वास बढ़ा है। पार्टी के मंच पर हमेशा बहू के आवरण में ‘प्रशिक्षु राजनेता’ सी नजर आने वाली डिंपल अब पहले जैसी नहीं रहीं। आगरा की तरह ही गुरुवार को उन्नाव और कानपुर के महाराजपुर विधानसभा क्षेत्र के रेसकोर्स मैदान की जनसभा में अपने अंदाज से वह बहुत कुछ साबित कर गईं।कभी पोडियम पर कागज रखकर सिर झुकाए इबारत सी पढऩे वाली डिंपल यहां पढ़ नहीं, बोल रही थीं। एक मंझे वक्ता की तरह कुछ बोलतीं और सामने जुटी भीड़ का रिस्पांस भी साथ-साथ देखती-परखती जातीं। पहले रटते हुए ‘मुख्यमंत्री जी’ की बात कर जाने वाली डिंपल अब जनता से जुडऩे की तदबीर भी समझ गईं हैं, तभी तो बार-बार ‘आपके अखिलेश भैया’ का संबोधन उनकी जुबां पर था। ‘बिजली मिलती है कि नहीं…? खातों में पैसा आया कि नहीं…? साइकिल को जिताओगे कि नहीं…?’ संवाद के जिस तरीके को प्रभावशाली माना जाता है, उसमें भी डिंपल कहीं कमजोर नजर नहीं आईं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here