भोपाल, एजेंसियां/मध्य प्रदेश के शाजापुर जिले में भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में हुए बम धमाके में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि विस्फोट में पाइप बम और टाइमर का इस्तेमाल हुआ था। इस बम की तस्वीरें सीरिया भेजी गई थीं। बता दें कि सीरिया आतंकी संगठन आईएस का गढ़ माना जाता है।चौहान ने कहा, मध्य प्रदेश के पिपरिया से गिरफ्तार एक शख्स के मोबाइल से इन तस्वीरों को सीरिया भेजा गया था। उन्होंने कहा कि इन आतंकियों ने इंटरनेट से बम बनाने की ट्रेनिंग ली थी।
पुष्पक एक्सप्रेस से पहुंचे थेमुख्यमंत्री ने कहा, तीन आतंकी मंगलवार सुबह ही पुष्पक एक्सप्रेस से लखनऊ से भोपाल पहुंचे थे। उन्होंने बम को सुबह साढ़े सात बजे भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन की ऊपर वाली सीट पर रखा था। टाइमर के जरिये लगभग दो घंटे का समय सेट किया गया था। ट्रेन के शाजापुर के जबड़ी स्टेशन से निकलते ही बम फट गया।…तो ज्यादा नुकसान होता
चौहान के मुताबिक पाइप बम सीट के नीचे रखा होता तो नुकसान ज्यादा हो सकता था। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश एटीएस ने तत्परता दिखाते हुए तीनों आरोपियों को उस समय पकड़ लिया गया, जब वे बस से पिपरिया जा रहे थे। तीनों के लखनऊ भागने की योजना थी।धमाके के लिए आईएस जिम्मेदार
शिवराज ने विधानसभा में बयान दिया कि ट्रेन में बम विस्फोट आईएस से जुड़े आतंकियों ने किया था। यह एक सुनियोजित षड्यंत्र था।परीक्षण विस्फोट था
दूसरी ओर, मध्यप्रदेश के गहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि ट्रेन में धमाका आईईडी से एक परीक्षण विस्फोट था। हालांकि पुलिस ने ट्रेन में धमाके के पांच घंटे के अंदर ही आतंकी नेटवर्क को तोड़ दिया। उन्होंने दावा किया कि आतंकियों का और स्थानों पर भी विस्फोट करने का इरादा था।पाइप बम
पाइप बम एक प्रकार की आईईडी(इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) है। इसमें विस्फोटक पदार्थों से भरा एक धातु का पाइप होता है, जो दोनों ही सिरों पर सील किया जाता है। यह बम दक्षिण एशिया में सक्रिय पाकिस्तानी आतंकी संगठन उपयोग में लाते हैं।ट्रेन दुर्घटना की एनआईए जांच शुरू
राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का दल मध्यप्रदेश में मंगलवार को ट्रेन में हुए विस्फोट मामले की जांच शुरू कर दी है। एनआईए अधिकारी मध्यप्रदेश पुलिस से इस बात की पुष्टि कर रही है कि उन्हें मिले सुराग से विस्फोट के आतंकी हमला होने की पुष्टि करते हैं अथवा नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here