प्रदेश सरकार लोगों को मूलभूत सुविधाएं प्रदान करने में नाकाम साबित हुई- अभय चौटाला
इनेलो ने एसवाईएल पर गृहमंत्री को अलग से ज्ञापन सौंप कर प्रदेश का पक्ष रखा- अभय चौटाला
विभिन्न आयोजनो पर प्रदेश की जनता का पैसा व्यर्थ बर्बाद करने में जुटी है सरकार- इनेलो
चंडीगढ़, 29 मार्च : इनेलो के वरिष्ठ नेता व विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने कहा कि भाजपा ने सत्ता में आने से पूर्व जो घोषणापत्र जारी किया था उसमें मुख्य रूप से कानून व्यवस्था को सुधारने की बात कही गई थी लेकिन आज पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहद खराब है। अभय चौटाला ने आज सिरसा में पत्रकारों को संबोधित करते हुए जिले का उदाहरण देते हुए कहा कि सिरसा जिला में वर्षो पुराने मर्डर तक के केस अब तक पुलिस नहीं सुलझा पाई है और आए दिन चोरी, डकैती, अपहरण, बलात्कार की घटनाएं हो रही है। उन्होंने कहा कि सिरसा समेत पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहद खराब है और अपराधियों का न पकड़े जाना इस ओर इशारा करता है कि जैसे अपराधी राजनीतिक और सरकार का संरक्षण प्राप्त किए हुए है। उन्होंने कि सिरसा जिला में कानून व्यवस्था के साथ-साथ पीने के पानी का भी बुरा हाल है और गांव चौटाला में तो वॉटर बॉक्स की लेबोरटी से आई रिपोर्ट में यहां तक कहा गया है कि इस पानी को पीने से अनेक प्रकार की बीमारियां लग सकती है। अब ऐसे में गांववासी करें भी तो क्या करें। उन्होंने कहा कि सरकार आमजन को मूलभूत सुविधाएं प्रदान करने में नाकाम साबित हुई है और कभी एग्रीकल्चर और कभी बिजनेस सम्मिट के नाम पर प्रदेश की जनता के गाढ़े खून पसीने की कमाई को व्यर्थ बर्बाद करने के काम में जुटी है।
अभय चौटाला ने कहा कि सरकार ने पिछले दिनों आयोजित किए एग्रिकल्चर सम्मिट में जबरदस्ती हजारों की भीड़ इकटठी की जिन्हें सिखाने के लिए वहां कोई प्रशिक्षक तक मौजूद नहीं था और यही कारण था कि केन्द्रीय मंत्री और हरियाणा सरकार के मंत्री ने भी इस सम्मिट पर सवाल उठाए थे। उन्होंने एसवाईएल का उल्लेख करते हुए कहा कि पिछले हफ्ते 24 मार्च को हम केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिले और उन्हें अलग से ज्ञापन सौंपकर अपनी पार्टी की ओर से बात रखी। अभय चौटाला ने कहा कि हमने एसवाईएल पर गृहमंत्री को पूरी बात बताकर उनसे इस मसले को हल करने के लिए कहा जबकि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और कांग्रेस नेता अधिकारियों द्वारा बनाए ज्ञापन को सौंपकर आ गए। उन्होने कहा कि मैने खुद राजनाथ सिंह को एसवाईएल बारे पूरी जानकारी दी और कहा कि 24 मार्च 2016 को हरियाणा की विधानसभा में एसवाईएल पर निंदा प्रस्ताव पास किया गया और उस दिन से लेकर अब तक हरियाणा के मुख्यमंत्री ने एसवाईएल पर किसी से भी कोई बात नही की। 
इनेलो नेता ने कहा कि हमने कई बार मुख्यमंत्री खट्टर से कहा कि आप प्रधानमंत्री से वक्त लो और उनसे इस बारे बात करो लेकिन पंजाब का मुख्यमंत्री तो सीएम बनते ही प्रधानमंत्री से तुरंत मुलाकात भी कर भी आया जबकि हरियाणा के मुख्यमंत्री अब तक पीएम से मिलने का वक्त तक नही ले पाए। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री खुद इस मुद्दे पर कुछ नहीं करना चाहते जबकि इनेलो ने एसवाईएल खोदने के लिए 23 फरवरी को हजारों लोगों को साथ लेकर अंबाला से पंजाब कूच करते हुए गिरफतारी दी और उसके बाद भी सरकार की आंखे खोलने के लिए दिल्ली में संसद का घेराव करते हुए पुलिस की लांठियां खाई। उन्होने कहा कि केन्द्रीय गृहमंत्री ने हमारी पूरी बात सुनने के बाद आश्वासन दिया कि वे खुद 12 अप्रैल के बाद इस बारे बात करेंगे और जो भी हो सकता है वो करेंगे। अभय चौटाला ने कहा कि अगर केन्द्रीय गृहमंत्री ने इस बारे कोई कार्यवाही नहीं कि तो हम उसके बाद पार्टी में विचारविमर्श कर आगामी रणनीति बनाएंगे। 
नेता प्रतिपक्ष ने कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष डा. अशोक तंवर की ओर से निरंतर इनेलो पर किए जा रहे कटाक्ष पर पूछे गए सवालों पर कहा कि कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष का तो कांग्रेस वाले पिटाई करके स्वागत करते है। जहां तक बात हमारी पार्टी की है तो इनेलो का पौधा चौधरी देवीलाल का लगाया हुआ है और इसकी जड़े बहुत मजबूत है इसलिए कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष इनेलो पर टिप्पणी करने की बजाय अपनी पार्टी की परवाह करें क्योंकि पता नहीं वो खुद कांग्रेस के प्रदेशाघ्यक्ष पद की कुर्सी पर कितने दिन तक और टिक पाते है। दरअसल अभय चौटाला कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष की उस टिप्पणी का जवाब दे रहे थे जिसमें उन्होंने कहा था कि इनेलो का तम्बू अब उखड़ चुका है और इसीलिए वे कभी अंबाला तो कभी दिल्ली में तंबू लगा रहे है। इससे पूर्व अभय चौटाला ने कार्यकर्ताओं की समस्याएं जानी और उन्हे मौके पर हल करने का प्रयास किया। इस अवसर पर इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन, जसबीर जस्सा, धर्मवीर नैन, कृष्णा फौगाट, महावीर शर्मा, योगेश शर्मा भी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here