रामपुर,राज्यरानी इंटरसिटी में सफर कर रहे यात्री सुबह सुबह हुए हादसे से सदमे में आ गए। शनिवार सुबह का वक्त था सब इत्मीनान से अपनी अपनी बोगी में सफर का आनंद उठा रहे थे। करीब आठ बजे अचानक ट्रेन को बड़ा झटका लगा और सब हक्के-बक्के रह गए। बोगियां जैसे ही पटरी सै उतरी लोग एक दूसरे पर गिर पड़े, चीख पुकार मच गई। हर कोई बचने के लिए दरवाजे की तरफ दौड़ पड़ा। धक्का मुक्की शुरू हो गई।वीर सिंह अमरोहा के उस्मान अली ने बताया कि उन्हे ऐसा लगा कि जलजला आ गया है। चंद मिनटों के लिए वे हक्का बकका रह गये। जब तक कुछ समझते तब तक हर तरफ चीख चिल्लाहट मच गई। बड़ी मुश्किल से नीचे उतरे तो देखा कि डिब्बे पटरी से लुढ़के पड़े हैं। उन्होंने बताया कि सबसे पहले घर खैरियत की खबर दी। बरेली की सुमन उपाध्याय ने भी अपना डर बयां किया।
मेरठ की मंजू पंत ने बताया कि अचानक ट्रेन में आटा चक्की चलने की व झटके की आवाज आने लगी पूरे डिब्बे में अफरा-तफरी मच गई। यात्रियों ने बताया कि नदी के पुल के पास घटना होने से राहत अभी तक नही मिली है। आसपास के लोगों ने कुछ मदद की है।

बदहवासी अफरा-तफरी का माहौल

घटना के बाद से करीब नौ बजे तक घटना स्थल पर अफरा-तफरी का आलम बना हुआ है। लोग अपने अपने सामान लेकर किसी तरह नीचे उतरे। जिनके सामान छूट गये ट्रेन में वे दुबारा चढ़ने की हिम्मत नहीं जुटा सके। बदहवासी में अशोक कुमार की पत्नी संगीता और मुरादाबाद के रौशन रोने लगे।ट्रेन में सफर कर रहे प्रोफेसर आरएस सेंगर ने बताया कि सब कुछ एक झटके में हुआ। ट्रेन में सब अपनी सीटों पर बैठे आराम से सफर कर रहे थे। रामपुर आने वाला था, तभी अचानक तीन-चार झटके लगे और ट्रेन में सवार लोग एक दूसरे के ऊपर गिरने लगे। ट्रेन के पिछले हिस्से के डिब्बे पलट गई, दो तीन डिब्बे पूरी तरह पलट चुके थे, जबकि कई पटरी से उतर गए। वह भी उस कोच में सवार थे जो पटरी से उतर गया था। किसी तरह वह कोच से बाहर निकले, उन्हें भी काफी चोट आई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here