नई दिल्ली अब रेल का टिकट बुक करने के लिए गणित का ज्ञान होना जरूरी है। बिना गणित की जानकारी आप अपने यात्रा टिकट की जानकारी हासिल नहीं कर पाएंगे। जी हां, बिना जोर-घटाव किये आपके टिकट का पीएनआर स्टेटस पता नहीं चल पाएगा।
रेलवे की वेबसाइट पर पीएनआर स्टेटस चेक करने के लिए कैप्चा में दिए गए अंक को जोड़कर या घटाकर जानकारी देने पर ही यह पता चलेगा कि आपका टिकट अभी भी वेटिंग है या कंफर्म हो गया है।
सेंटर फॉर इंफॉरमेशन सिस्टम (CRIS) ने रेलवे रिजर्वेशन की वेबसाइट में बदलाव कर दिया है। अगर आप पीएनआर स्टेटस चेक करना चाहते हैं तो आपको जोड़-घटाव की जानकारी होनी चाहिए, क्योंकि पीएनआर के साथ ही वेबसाइट पर कैप्चा में कुछ अंक दिए जा रहे है, जिसे जोड़कर या घटाकर जवाब बॉक्स में भरना होगा। हालांकि यह पूर्व में मांगी गई जानकारी से काफी आसान हो गया है।
पहले कैप्चा में अल्फा बेट के साथ ही अंकों की भी जानकारी मांगी जाती थी। कई बार दोनों जानकारी एक दूसरे में मिश्रित होने के कारण लोगों को कठिनाई होती थी, लेकिन अब यह बिल्कुल आसान हो गया है।
टिकट बुकिंग में कैप्चा की जगह फोटो
अगर आप वेबसाइट से टिकट बुक करते है तो कैप्चा की जगह फोटोग्राफ दिखेगा। जैसे ताजमहल का फोटो दिखने पर कैप्चा की जगह आगरा लिखने पर ही टिकट की बुकिंग स्वीकृत की जा रही है।
रेलवे की मुहिम
रेल मंत्रालय के लिए यात्री किराया बढ़ाना किसी चुनौती से कम नहीं है। प्रीमियम ट्रेनों में फ्लैक्सी सिस्टम के बारे में रेलवे को खराब फीड बैक मिल रहा है, लिहाजा मंत्रालय अचानक किराया बढ़ाने में हिचक रहा है। रेलवे अब एक तरह की मुहिम चला रहा है। आईआरसीटीसी की वेबसाइट खोलते ही यह बताया जा रहा है कि क्या आप जानते हैं कि आपके किराये का 43 फीसदी खर्च (सब्सिडी के रूप में मिल रहा पैसा) देश के आम नागरिक वहन करते हैं। इसका संकेत यह है कि रेलवे यात्रा खर्च पर दी जाने वाली सब्सिडी में बदलाव करना चाहता है। इसके लिए कई तरह के फार्मूले पर मंत्रालय विचार कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here