आरबीआई ने बैंकों को रैनसमवेयर वन्नाक्राई के हमले से बचने के लिए सरकारी संगठन सीईआरटी-ईन के निर्देशों का पालन करने को कहा है। वन्नाक्राई ने 150 से अधिक देशों में अनेक आईटी नेटवर्क गड़बड़ा गए हैं।
सूत्रों के मुताबिक गृहमंत्रालय ने एडवाइजरी जारी कर देशभर में कई एटीएम को बंद करने का फैसला लिया है। भारत सरकार ने एहतियातन ये फैसला लिया है।
इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पोंस टीम (सीईआरटी-इन) ने क्या करे और क्या न करें की सूची जारी की है। उसने इस संबंध में वेबकास्ट (इंटरनेट) पर संदेश जारी किया कि फिरौती की मांग के साथ किए जा रहे इस कंप्यूटर वायरस हमले से अपने कंप्यूटर नेटवर्क को कैसे बचाया जा सकता है।
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बैंकों को जारी परामर्श में कहा है कि ऐसी खबर है कि वन्नाक्राई नाम का नया कंप्यूटर वायरस तेजी से फैल रहा है। यह संक्रमित विंडोस प्रणाली पर फाइलें इक्रिप्ट कर के प्रणाली की कमोजरी का फायदा उठाकर संबंधित नेटवर्क में फैल जाता है।
उसने सभी बैंकों को अपने सिस्टम को मालवेयर से बचाने के लिए एटीएमों में सॉफ्टवेयर अपटेड करने को कहा है क्योंकि इस मालवेयर ने दुनियाभर में भुगतान प्रणाली को अपने चपेट में लिया है। पिछले साल एक अन्य मालवेयर हमले की चपेट में देश में 3.2 लाख डेबिट कार्ड आए थे। पिछले साल मई, जून और जुलाई में हिताची की एटीएम मशीनों में विनिमय करने वाले उपयोगकर्ताओं के आंकड़ों में छेड़छाड़ हुई थी।
खबरों के अनुसार, ऑटोमेटेड टेलर मशीनों (एटीएम) के ऐसे मालवेयर हमलों की चपेट में आने की आशंका अधिक है क्योंकि वे माइक्रोसोफ्ट विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के पुराने संस्करण पर चलते हैं, ऐसे में सुरक्षा उपाय अपटेड करने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here