जयपुर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने मंत्रीमंडल के तीसरे विस्तार में जोधपुर के सांसद गजेन्द्र सिंह शेखावत को राज्य मंत्री बनाकर एक ओर जहां राजस्थान में भाजपा से नाराज चल रहे राजपूत समाज को एक बार फिर पार्टी के साथ लाने का प्रयास किया है,वहीं पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत के घर में सेंध लगाई है । मोदी ने शेखावत को राज्यमंत्री बनाकर एक तीन से कई निशान साधे हैं ।

इनमें सबसे पहला तो पिछले एक साल से राज्य में भाजपा से नाराज चल रहे पार्टी के परम्परागत वोट बैंक राजपूत समाज को एक बार फिर साथ लाने का प्रयास किया है । जयपुर राजपरिवार की सम्पती राजमहल पैलेस एवं अन्य जमीनों पर को सरकार द्वारा अपने कब्जे में लेने के बाद राजपूत समाज ने कई दिनों तक आंदोलन किया था । उस दौरान राज्य का पूरा राजपूत समाज एकजुट हुआ,यहां तक की भाजपा के ही राजपूत विधायक एवं नेता राजपरिवार के पक्ष् में लामबंद हो गए । राजपूत समाज की इस नाराजगी के बीच ही एक माह पूर्व गैंगस्टर आनंदपाल सिंह के एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए राजपूत समाज ने 20 दिन तक सरकार के खिलाफ आंदोलन किया । राजपूत समाज मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रहा था,सरकर ने पहले तो नहीं मानी,लेकिन चारों तरफ से बढ़ते दबाव के कारण बाद में इस मांग को मानते हुए केन्द्रीय गृह मंत्रालय को सीबीआई जांच का सिफारिशी पत्र भेजा गया ।

राजपूत समाज की भाजपा एवं राज्य सरकार से नाराजगी का तीसरा कारण फिल्म पद्मावती की शूटिंग की अनुमति देना रहा । संजय लिला भंसाली की इस फिल्म की शूटिंग के दौरान राजपूत समाज ने कई बार सैट पर तोड़फोड़ की,भंसाली एवं उनकी यूनिट के साथ जयपुर के आमेर में मारपीट की गई । राजपूत समाज का आरोप था कि भंसाली इस फिल्म में रानी पद्मावती को अलाउद्दीन खिलजी की प्रेमिका दिखा रहे हैं,जो कि गलत है । इनके अतिरिक्त भी विभिन्न कारणों से राजपूत समाज राज्य में भाजपा से नाराज चल रहा था ।

यह माना जा रहा है कि आगामी विधानसभा और फिर लोकसभा चुनाव को देखते हुए मोदी ने राजपूत समाज को पार्टी के साथ लाने का प्रयास किया है ।जोधपुर सांसद गजेन्द्र िसंह शेखावत को मंत्री बनाकर कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को उनके घर में ही घेरने की रणनीति भी है । राजस्थान मे कांग्रेस के सबसे मजबूत नेता गहलोत अब तक जोधपुर संभाग के दिग्गज नेताओं में माने जाते थे,लेकिन अब शेखावत को मंत्री बनाकर गहलोत के समक्ष चुनौति पैदा करने की कोशिश की गई है ।

सोशल साइट्स पर सक्रिय रहते हैं शेखावत

केन्द्रीय कृषि राज्यमंत्री बनाए गए गजेन्द्र सिंह शेखावत सोशन साइट्स एवं पर खासे सक्रिय रहते हैं । फिर चाहे सवाल-जवाब करने वाली ब्लॉग साइट क्योरा हो या फिर ट्वविटर हो,वे हमेशा सक्रिय नजर आते हैं । शेखावत ब्लॉग साइट क्योरा पर काफी सक्रिय रहते हैं । इस साइट पर सवाल-जवाब करने के साथ ही मोदी सरकार की उपलब्धियां बताने के साथ ही संघ और भाजपा के बारे में जानकारी देने में भी आगे रहते हैं । वर्तमान में उनके 55 हजार से अधिक फोलोअर्स हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here