देहरादून: प्रदेश में स्वाइन फ्लू का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा। न सिर्फ यह बीमारी एक के बाद एक कई मरीजों को अपनी जद में ले रही है, बल्कि स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। दून में एक और महिला की स्वाइन फ्लू से मौत हो गई है। जिससे मृतकों की संख्या बढ़कर 16 पहुंच गई है।

स्वास्थ्य विभाग के लाख दावों के बाद भी दून में स्वाइन फ्लू तेजी से पांव पसार रहा है। दून में इससे गजियावाला घंघोड़ा निवासी एक और महिला की मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार 48 वर्षीय एक महिला को 26 अगस्त को सैन्य अस्पताल गढ़ी कैंट में भर्ती कराया गया था। महिला की 30 अगस्त को मौत हुई। जिसमें अब स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है।

मृतकों में 11 देहरादून, एक उत्तर प्रदेश, एक हरिद्वार, दो पौड़ी एवं एक उत्तरकाशी का मरीज है। वही इसके मरीजों की संख्या 120 पहुंच गई है। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. तारा चंद पंत ने बताया कि जनवरी से अब तक स्वाइन फ्लू संभावित 293 मरीजों के सैंपल लिए गए हैं। जिनमें 120 में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। 22 मरीजों की रिपोर्ट अभी आनी बाकी है।

10 और मरीजों में डेंगू की पुष्टि

स्वाइन फ्लू के साथ-साथ अब डेंगू का डंक भी गहरा होता जा रहा है। जनपद देहरादून में 10 और मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई। जिसके बाद डेगू पीडि़त मरीजों की संख्या बढ़कर 45 पहुंच गई है। डेंगू का ज्यादा प्रकोप इस बार धर्मनगरी हरिद्वार में दिख रहा है। वहां इसके सर्वाधिक 25 मामले आए हैं। देहरादून में 13 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। जबकि पांच मरीज उत्तर प्रदेश से हैं। इसके अलावा टिहरी व चमोली से भी डेंगू के एक-एक मरीज सामने आए हैं।

स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक जनवरी से अब तक डेंगू संभावित 2409 मरीजों के सैंपल लिए गए हैं। इनमें अब तक 45 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। जिनमें 31 मरीज अगस्त में सामने आए हैं। जबकि सितंबर में 10 मामले सामने आए हैं।

विभागीय अधिकारी दावा कर रहे हैं कि मच्छर केसफाए के लिए शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में हर अंतराल के बाद फॉगिंग कराई जा रही है। लोगों को स्वच्छता बनाए रखने के लिए जागरूक किया जा रहा है। बावजूद इसके डेंगू का मच्छर सक्रिय दिख रहा है।

डेंगू के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने सरकारी व गैर सरकारी स्कूलों के लिए पूर्व में ही एडवाइजरी जारी कर दी थी। स्कूली बच्चों को फुल बाजू की शर्ट व पैंट पहनकर स्कूल आने को कहा गया, लेकिन स्कूल इस पर अमल नहीं कर रहे। जबकि गत वर्ष दून में डेंगू का खासा प्रकोप रहा था। इस बार भी शहर के कई इलाके डेंगू की जद में हैं। वातावरण में ठंडक आने तक डेंगू का मच्छर सक्रिय रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here