देहरादून: उत्तराखंड में मानसून की रफ्तार मंद पड़ी है और अधिकांश इलाकों में धूप खिली है। इसके बावदूद मौसम एक बार फिर रंग बदल सकता है। मौसम विभाग के अनुसार अगले चौबीस घंटे तक प्रदेश में कुछ स्थानों पर मध्यम वर्षा हो सकती है।

दूसरी ओर चार धाम यात्रा में भूस्खलन की अड़चन जारी है। बदरीनाथ हाईवे अब सुचारु है, लेकिन गंगोत्री हाईवे पर बार-बार आ रहे मलबे से यात्रा में बाधा पड़ रही है। पिथौरागढ़ में जौलीजीवी मुनस्यारी मार्ग घिघरानी के पास मलबा आने से बंद हो गया। यहां गत रात जमकर बारिश हुई थी।

उत्तरकाशी और ऋषिकेश के बीच हाईवे पर रतूड़ासेरा नामक स्थान पर एक स्लाइडिंग जोन सक्रिय होने के कारण यह स्थिति बनी है। उत्तरकाशी जिला मुख्यालय से दस किलोमीटर दूर इस स्थान पर बार-बार आ रहा मलबा सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के लिए सिरदर्द साबित हो रहा है। उत्तरकाशी के जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि यहां एक जेसीबी और बीआरओ के श्रमिक फिलहाल स्थायीतौर पर रखे गए हैं। उन्होंने कहा कि यात्रियों की सुरक्षा से किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा।

फिलहाल गढ़वाल मंडल के साथ ही कुमाऊं मंडल में कहीं मौसम साफ है तो कहीं बादल छाए हैं। पौड़ी, रुड़की और टिहरी में बादल से बारिश के आसार बन रहे हैं, वहीं पिथौरागढ़, अल्मोड़ा, नैनीताल आदि स्थानों पर धूप खिली है।मंगलवार की रात धारचूला में फिर भारी बारिश होने से काली नदी 888.55 मीटर पर बह रही है। खतरे का निशान 890 मीटर है। मुनस्यारी में भी रात को 13 एमएम वर्षा हुई। अन्य तहसील क्षेत्रो में मौसम सामान्य रहा। जौलजीवी मुनस्यारी मार्ग घिघरानी के पास मलबा आने से बंद पड़ा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here