नई दिल्ली। चीन में एंट्री के लिए फेसबुक इंक ने एक नया तरीका खोजा है। कंपनी गुप्त तरीके से अलग अलग नामों से एप लॉन्च कर रही है। इस फोटो शेयरिंग एप का नाम कलरफुल बलून है, जिसे मई में लॉन्च किया गया था। इस एप की मदद से फेसबुक को चीन के उस बड़े बाजार में एंट्री करने में मदद मिलेगी जहां पर इसे साल 2009 से ही प्रतिबंधित किया हुआ है। यह जानकारी इस मामले से जुड़े हुए एक शख्स ने साझा की है।
फेसबुक ने कहा कि दुनिया को आपस में जोड़ने का जो लक्ष्य है वो दुनिया की सबसे ज्यादा आबादी वाले देश को शामिल किए बिना पूरा नहीं हो सकता है। हालांकि कंपनी ने उन विवरणों की पुष्टि करने से इनकार कर दिया, जिन्हें एक अंग्रेजी दैनिक में पहली बार प्रकाशित किया गया था।

कंपनी ने बताया, “हमने पहले भी कहा है कि हमारी चीन में दिलचस्पी है, हम अपना समय खर्च कर रहे हैं और कंपनी को अलग अलग तरीके से समझने की कोशिश कर रहे हैं। हमारा मुख्य ध्यान चीन के बिजनेस और डेवलपर की मदद करना है, ताकि वो हमारे एड प्लेटफॉर्म के जरिए चीन के बाहर भी संभावनाओं की तलाश कर पाएं।”

आखिर चीन में इतनी दिलचस्पी क्यों:

फेसबुक चीन में इतनी दिलचस्पी इसलिए दिखा रहा है क्योंकि यहां पर करीब 700 मिलियन इंटरनेट यूजर हैं, जो कि मौजूदा समय में देसी सोशल नेटवर्किंग एप का इस्तेमाल कर रहे हैं, जिसमें टेंसेंट होल्डिंग लिमिटेड का वी-चैट प्रमुखता से शामिल है। फेसबुक के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर मार्क जुकरबर्ग ने चीनी अधिकारियों को लुभाने के लिए बार-बार प्रयास किए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here