चंडीगढ़। गुटबाजी की शिकार हरियाणा कांग्रेस में अब हुड्डा और तंवर खेमा गुरुग्राम निगम चुनाव के मुद्दे पर आपस में उलझ गया है। इसी बीच कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर ने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात कर निकाय चुनाव पार्टी चिह्न पर लड़ने की वकालत की।

गौरतलब है कि भाजपा और इनेलो गुरुग्राम निगम चुनाव को पार्टी चिह्न पर लड़ने की घोषणा कर चुके हैं। इसे आधार बनाते हुए तंवर खेमा पार्टी सिंबल पर चुनाव लड़ने की जोरदार वकालत कर रहा है। वहीं हुड्डा गुट के नेता इसके विरोध में हैं। पिछले दिनों तंवर द्वारा पार्टी सिंबल पर चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद हुड्डा गुट के नेताओं ने पार्टी प्रभारी कमलनाथ के समक्ष इसका विरोध किया।

हुड्डा खेमे का तर्क था कि पार्टी ने ऐसे चुनाव कभी सिंबल पर नहीं लड़े। इसके बाद कमलनाथ ने लिखित में निर्देश जारी कर तंवर की घोषणा पर विराम लगा दिया था। वहीं, तंवर का कहना है कि उन्होंने राहुल गांधी से सलाह के बाद ही उक्त घोषणा की थी। इसलिए राहुल के विदेश से लौटते ही उन्होंने उनसे मुलाकात कर पार्टी सिंबल पर ही चुनाव लड़ने की वकालत की।

जिलाध्यक्षों का चुनाव अगले सप्ताह

मतदाता सूचियों पर छिड़े विवाद के बीच तीन साल से जिला कार्यकारिणी से महरूम हरियाणा कांग्रेस के जिलाध्यक्षों का चुनाव 16 सितंबर तक हो जाएगा। इससे पहले 10 सितंबर तक ब्लाक अध्यक्षों का चुनाव करा दिया जाएगा। तंवर के प्रदेशाध्यक्ष बनने के कुछ समय बाद ही जिला कार्यकारिणी भंग कर दी गईं थी जो अभी तक गठित नहीं हो पाई हैं।

फिलहाल सभी जिलों में डीआरओ ने संगठन चुनाव प्रक्रिया को पूरा कराने के लिए मोर्चा संभाला हुआ है। हालांकि पार्टी हाईकमान के निर्देश हैं कि चुनाव सर्वसम्मति से हो, लेकिन गुटबाजी के चलते यह संभव नहीं दिखता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here