भोपाल। दो-दो सीसीएफ निलंबित कर दिए, एक आईएएस को बर्खास्त कर दिया, फिर भी नहीं सुधरे.. ये फटकार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खंडवा के मुख्य वन संरक्षक को लगाते हुए उनकी वेतनवृद्धि रोके के निर्देश जारी किए। दरअसल सीएम शिवराज समाधान ऑनलाइन की समीक्षा कर रहे थे जिसमें उनके सामने समस्याओं के निराकरण में लापरवाही बरतने वाले कुछ अधिकारियों का मामले सामने आया। उन्होंने खंडवा के मुख्य वन संरक्षक अधिकारी की वेतनवृद्धि रोकने का आदेश देते हुए कहा कि दो-दो सीसीएफ निलंबित कर दिए, एक आईएएस अफसर को बर्खास्त कर दिया, फिर भी नहीं सुधरे।

दरअसल खंडवा के रोहणी गांव के नानक राम की 6 बकरियों को रीछ खा गया था। उसे मुआवजा तो मिला लेकिन इसमें काफी देर हो गई। इसको लेकर अधिकारी संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। इससे नाराज मुख्यमंत्री ने वेतनवृद्धि रोकने के आदेश दिए। इसी तरह दो तहसीलदार, एक पटवारी और एक सहायक भू-संरक्षण अधिकारी को लापरवाही बरतने पर निलंबित करने के निर्देश दिए।

मंत्रालय में गुरुवार को रात आठ बजे तक समाधान ऑनलाइन की बैठक हुई। इसमें मुख्यमंत्री ने मवेशी मौत के मामले में मुआवजा देने में लापरवाही बरतने पर रेंजर के खिलाफ विभागीय जांच कर सेवा से निकालने की कार्रवाई के निर्देश दिए। कटनी के शेख अजमेर को बलराम तालाब बनाने की दूसरी किस्त नहीं मिलने पर सहायक भू-संरक्षण अधिकारी को निलंबित कर दिया। रीवा के दुबड़ा गांव के सुमधनधर शर्मा की जमीन की गैरकानूनी तरीके से अदला-बदली करने और दस्तावेज की हेराफेरी करने के मामले में तत्कालीन और मौजूदा तहसीलदार के साथ पटवारी को निलंबित करने के निर्देश दिए। बैठक में कुछ अन्य मामलों में भी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए।

भ्रष्ट अफसरों की बनाएं सूची

मुख्यमंत्री ने भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्ती दिखाते हुए कहा कि किसी भी स्तर पर भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कलेक्टरों को निर्देश दिए कि वे ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों की सूची बनाएं जिन्होंने 50 साल की आयु और बीस साल की सेवा पूरी कर ली है। ऐसे अधिकारियों को सेवा से बर्खास्त किया जाएगा।

अक्टूबर में होने वाली समीक्षा मारक होगी

मुख्यमंत्री ने बैठक में मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह और प्रमुख राजस्व अरुण पांडे की तारीफ की। इस पर मुख्य सचिव ने कहा कि अभी तो मैंने शुरुआत की है। अक्टूबर में इसका दूसरा चरण होगा जो ज्यादा मारक रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here