नई दिल्ली। मैकडॉनल्ड्स के पार्टनर विक्रम बख्शी ने गुरुवार को कहा कि उत्तर और पूर्वी भारत में अमेरिकी ब्रैंड के तहत उनके 169 आउटलेट्स काम करना जारी रखेंगे। मैकडॉनल्ड्स ने पिछले महीने बख्शी के साथ फ्रैंचाइज़ी समझौते को समाप्त कर दिया था। इसका मतलब यह हुआ कि अब उनके 169 आउटलेट्स मैकडॉनल्ड्स ब्रैंड के नाम का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। वहीं मैकडॉनल्ड्स ने यह भी कहा है कि वह बख्शी को अपनी बौद्धिक संपदा का उपयोग करने से रोकने के अपने कानूनी अधिकार का इस्तेमाल करेगा।

NCLAT का अंतरिम आदेश से इनकार

नैशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्राइब्यूनल (NCLAT) ने विक्रम बख्शी की अपील पर कोई अंतरिम आदेश देने से इनकार कर दिया है। बख्शी ने अमेरिकी कंपनी मैकडॉनल्ड्स की ओर से फ्रैंचाइजी लाइसेंस अग्रीमेंट खत्म किए जाने के खिलाफ अपील दायर की थी। NCLAT के रुख का मतलब यह है कि अब उत्तर और पूर्वी भारत में चल रहे मैकडॉनल्ड्स के 169 स्टोर्स का भविष्य अब अधर में है। गौरतलब है कि इन आउटलेट्स को चलाने का कनॉट प्लाजा रेस्ट्रॉन्ट लिमिटेड (CPRL) का लाइसेंस बीते 5 सितंबर को खत्म हो चुका है।

मैक्डॉनल्ड्स इंडिया देश में दो फ्रेंचाइजी कंपनियों के जरिये कारोबार करती है। इस कंपनी में भागीदार विक्रम बख्शी की 50 फीसद हिस्सेदारी है। अमेरिका की दिग्गज कंपनी मैकडॉनल्ड्स और कनॉट प्लाजा रेस्टोरेंट्स (सीआरपीएल) के बीच अगस्त 2013 में सीपीआरएल के मैनेजिंग डायरेक्टर पद से विक्रम बख्शी को हटाने के बाद से ही लड़ाई जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here