नई दिल्ली। जीएसटी काउंसिल की 21वीं बैठक 9 सितंबर यानी आज होनी है। इस बैठक में कई आम उपयोग की वस्तुओं पर कर विसंगतियों का निर्धारण किए जाने की संभावना है। साथ ही साथ इस बैठक में मिड साइज और लग्जरी कारों पर बढ़ाई गई सेस दरों पर भी चर्चा हो सकती है। आपको बता दें कि यह जीएसटी काउंसिल की 21वीं बैठक होगी। जानकारी के मुताबिक इस बैठक में जीएसटी नेटवर्क में आईटी संबंधी दिक्कतों को भी सामने रखा जा सकता है जिसका हाल फिलहाल में सामना करना पड़ा है।

अधिकार संपन्न जीएसटी काउंसिल की अध्यक्षता केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली करते हैं और उनके साथ इसमें सभी राज्यों के वित्त मंत्री शामिल हैं। ये सभी करीब दो दर्जन उत्पादों पर कर की दरों को कम करने पर विचार कर सकते हैं जिसमें इडली/डोसा, सूखी इमली, कस्टर्ड पाउडर और रसोई गैस लाइटर शामिल हैं। एक अधिकारी ने बताया कि उन पर कर की जो दर निर्धारित की गई है उसमें विसंगतियां पाई गई हैं। इतना ही नहीं काउंसिल उन व्यवसायों से निपटने के लिए एक तंत्र भी तैयार करेंगी जो जीएसटी के बाद करों से बचने के लिए अपने ब्रैंड को रद्द कर रहे हैं। गौरतलब है कि देशभर में वस्तु एवं सेवा कर 1 जुलाई 2017 से लागू कर दिया गया था।

वहीं फिटमेंट कमेटी ने जीएसटी काउंसिल के समक्ष एक प्रस्ताव रखा है कि उत्पाद पर जीएसटी लागू करने के मद्देनजर उसकी एक पंजीकृत ब्रैंड के रुप में स्वीकार्यता के लिए 15 मई 2017 को कट ऑफ डेट मानने पर विचार करना चाहिए। आपको बता दें कि अनब्रैंडेड आइटम्स को जीएसटी से छूट प्राप्त है, जबकि ब्रैंडेड और पैक्ड फूड आइटम्स पर 5 फीसद की दर से जीएसटी लगता है। इसलिए, कई व्यवसाय लेवी से बचने के लिए अपने ब्रांड को रद्द कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here