वाशिंगटन (एजेंसी)। कैरेबियाई क्षेत्र में तबाही मचाने के बाद चक्रवाती तूफान इरमा और प्रचंड हो गया है। यह रविवार को अमेरिका के फ्लोरिडा प्रांत के द्वीप फ्लोरिडा कीज से टकराया। इसके चलते तूफानी हवाएं चल रही हैं जिससे तीन लोगों की मौत हो गई। माना जा रहा है कि यह तूफान अमेरिका के इस क्षेत्र के लिए विनाशकारी हो सकता है। फ्लोरिडा से हजारों भारतवंशी समेत लाखों लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया। दस लाख से ज्यादा घरों और दुकानों की बिजली गुल हो गई है।

राष्ट्रीय तूफान केंद्र (एनएचसी) के अनुसार, इरमा तूफान को श्रेणी चार में रखा गया है। इसके चलते लगातार 210 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं। इससे फ्लोरिडा के पश्चिमी तट पर बाढ़ आने और जानमाल का खतरा बना हुआ है। प्रांत के दक्षिण पश्चिम तटीय इलाकों में 10 से 15 फीट पानी भरने की आशंका जताई गई है। मुनरो काउंटी में तेज हवा में ट्रक का नियंत्रण खोने से एक की मौत हो गई। जबकि बारिश के चलते कार दुर्घटना में डिप्टी शेरिफ समेत दो की मौत हार्डी काउंटी में हुई।

फ्लोरिडा के अधिकारियों ने प्रांत की एक तिहाई आबादी यानी 63 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने का आदेश दिया है। प्रांत में करीब 1.20 लाख भारतीय अमेरिकी रहते हैं। इसके अलावा खतरे वाले क्षेत्र मियामी, लाउडरडेल और टांपा में हजारों भारतवंशी रहते हैं। अटलांटा और उसके आसपास रहने वाले भारतवंशियों ने फ्लोरिडा से आने वाले अपने समुदाय के लोगों और मित्रों के लिए अपने घर के दरवाजे खोल दिए हैं। लोगों के सुरक्षित जगहों पर जाने से हाईवे पर भारी जाम लग गया और आश्रय स्थलों पर क्षमता से अधिक लोग जमा हो गए हैं। शनिवार को फ्लोरिडा में आने और जाने वाली दो हजार से अधिक उड़ानें रद कर दी गई। कैरेबियाई क्षेत्र में 25 लोगों की जान लेने वाले इरमा से इस अमेरिकी प्रांत में भारी नुकसान का अंदेशा जताया गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तूफान से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की।

भारतीय हॉटलाइन नंबर

अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास ने चौबीस घंटे का हॉटलाइन नंबर 202-258-8819 शुरू किया है। इसके अलावा वरिष्ठ अधिकारियों को क्षेत्र में फंसे भारतवंशियों को मदद पहुंचाने के लिए अटलांटा रवाना किया है।

सेंट मार्टिन से निकाले गए भारतीय

चक्रवाती तूफान इरमा से तबाह हुए कैरेबियाई द्वीप सेंट मार्टिन पर फंसे करीब 60 भारतीयों को निकाल लिया गया है। यहां फंसे ज्यादातर भारतीयों के पास अल्प अवधि का ट्रांजिट वीजा है। जिनके पास यह वीजा नहीं है, उन्हें ट्रांजिट वीजा दिलाने के लिए भारतीय दूतावास अमेरिका के विदेश मंत्रालय और आंतरिक सुरक्षा विभाग के साथ मिलकर काम कर रहा है। अमेरिका में उप भारतीय दूत संतोष झा ने कहा, ‘पिछले 48 घंटे से दक्षिणी अमेरिका और पश्चिमी अटलांटिक के द्वीपों पर फंसे भारतीयों से संपर्क साधने का मुख्य काम चल रहा है।

हवाना में 36 फीट ऊंची लहरें

इरमा के चलते क्यूबा की राजधानी हवाना के तट पर रविवार को 36 फीट लहरें उठीं। शहर के कई इलाकों में बाढ़ आने से कामकाज ठप हो गया। हालांकि यहां तूफान का सीधा प्रभाव नहीं पड़ा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here