भारत में प्राचीन काल से ही उपवास या व्रत रखने की परंपरा है। उपवास का धार्मिक महत्व तो है ही, यह हमारी सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है। उपवास करने से हमारे शरीर की तमाम परेशानियां भी दूर होती हैं। व्रत में भोजन पर नियंत्रण कर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाया जा सकता है। इससे आपकी आयु भी बढ़ती है और बीमारियों के होने का खतरा कम होता है। कई डॉक्टर्स भी सप्ताह में एक दिन उपवास करने की सलाह देते हैं। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, उपवास रखने से हमारे शरीर को क्या-क्या फायदे होते हैं…
दिमाग की क्षमता को बढ़ाने में भी उपवास कारगर है। अगर आपका खान-पान अच्छा है और आप हफ्ते में एक बार उपवास रखते हैं तो इससे आपकी सोचने की क्षमता और याद्दाश्त में तेजी आएगी। इससे हमारे दिमाग में ब्रेन डिराइव्ड न्यूरोट्रॉफिक फैक्टर (BDNF) नाम का प्रोटीन बढ़ता है। यह प्रोटीन हमारे दिमाग की कार्यशैली को नियंत्रित करता है। इससे दिमाग शांत और स्वस्थ रहता है।
उपवास रखने से शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र यानी इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। इस वजह से शरीर में बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है। इसके अलावा न्यूरॉल्जिया, कोलाइटिस, थकान, कब्ज और सिरदर्द होने का खतरा कम हो जाता है।
व्रत का हमारे पाचन तंत्र पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। महीने में कम से कम 3 बार उपवास रखने से हमारी पाचन क्रिया दुरुस्त होती है। व्रत के दौरान हमारे पेट और लीवर को आराम मिलता है।
व्रत और उपवास से शरीर में फैट को कम करने में मदद मिलती है। जो लोग ज्यादा खाना खाने के आदी होते हैं उन्हें उपवास जरूर रखना चाहिए। उपवास से भूख भी नियंत्रित रहती है। इससे वजन बढ़ने की संभावनाओं पर भी विराम लगता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here