भोपाल। मध्यप्रदेश के सभी छह टाइगर रिजर्व, नेशनल पार्क और अभयारण्य एक अक्टूबर से पर्यटकों के लिए खुल जाएंगे। पार्क खुलने से पहले ही कान्हा और बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में दीपावली के बाद तक छुट्टी के दिनों में सभी सीटें फुल हो गई हैं। जबकि सतपुड़ा और पन्ना टाइगर रिजर्व में अभी मौका है।

बारिश और वन्यप्राणियों के प्रजनन काल की वजह से एक जुलाई से पार्क, अभयारण्य पर्यटकों के लिए बंद कर दिए गए थे। तीन महीने बाद खुल रहे पार्कों में पर्यटन का दबाव है। पिछले 20 दिन से ऑनलाइन बुकिंग चल रही है। कान्हा, बांधवगढ़ और पेंच टाइगर रिजर्व में सरकारी छुट्टी के दिन बुक हो चुके हैं।

हालांकि इनके बफर एरिया में बुकिंग अभी बाकी है। वहीं सतपुड़ा, पन्ना और संजय दुबरी टाइगर रिजर्व सीधी में सीटें खाली हैं। इस संबंध में वाइल्ड लाइफ के प्रवक्ता रजनीश सिंह के मुताबिक सतपुड़ा और पन्ना में सीटें अभी खाली हैं। कान्हा, बांधवगढ़ में छुट्टी के दिन फुल हो चुके हैं।

बफर में रूचि नहीं

वन विभाग ने इस बार से नेशनल पार्क और अभयारण्यों के बफर जोन में भी पर्यटन शुरू किया है। आम धारणा है कि बफर जोन में जानवर नहीं मिलते। इस वजह से सभी नेशनल पार्क और अभयारण्यों के बफर में 30 से 50 फीसदी टिकट ही बुक हुए हैं। वहीं वन्यप्राणी विशेषज्ञ बताते हैं कि बफर में पर्यटकों का दबाव कम रहता है। इस वजह से वन्यप्राणियों की भरपूर एक्टिविटी यहीं दिखाई देती है। वे कहते हैं कि बफर जोन का टिकट कोर जोन की तुलना में सस्ता रहता है, इसलिए भी पर्यटक को वहां जानवर दिखने का भरोसा नहीं होता।

120 दिन की बुकिंग

विभाग ने अगले 120 दिन की बुकिंग कर ली है। इनमें सभी छुट्टी के दिन लगभग बुक हो चुके हैं। उनके अलावा भी खाली सीटों की संख्या कम है। विभाग के अफसर बताते हैं कि समय नजदीक आते-आते ये सीटें भी बुक हो जाएंगी। ऐसे में वे 20 फीसदी सीटें रहेंगी, जो अचानक आने वाले पर्यटकों के लिए आरक्षित होती हैं। हालांकि ये सीटें आधा दर्जन भी नहीं होतीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here