चमोली: वर्षा ऋतु की विदाई के साथ ही बदरीनाथ धाम में मौसम रंगत बिखेरने लगा है। साथ ही बढ़ने लगी है यात्रियों की आमद। कारोबारियों के चेहरों पर भी मुस्कान बिखरी हुई है। अगर कपाट बंद होने तक ऐसा ही मौसम रहा तो इस यात्रा सीजन में पुराने रिकार्ड टूट सकते हैं।

सुनहरी धूप और बर्फ से ढकी चोटियों के बीच बदरीश पुरी का मौसम इन दिनों सुखद अहसास करा रहा है। मानसून के दौरान जो यात्रा ठप सी पड़ गई थी, सितंबर के प्रथम सप्ताह से वह रौनक बिखेरने लगी है। रोजाना दो हजार से अधिक यात्री भगवान बदरी विशाल के दर्शनों को पहुंच रहे हैं।

आंकड़ों पर नजर डालें तो 70 हजार से अधिक यात्री सितंबर में बदरीनाथ धाम पहुंच चुके हैं। यही वजह है कि जो व्यापारी कारोबार समेटकर लौटने की तैयारी करने लगे थे, वे अब कपाट बंद होने तक व्यवसाय करने की बात कर रहे हैं।

श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के मीडिया प्रभारी डॉ. हरीश गौड़ कहते हैं कि मौसम खुलने के बाद यात्रियों की संख्या में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। यह यात्रा के लिए शुभ संकेत है। दूर-दराज के प्रांतों से भी यात्री बदरीनाथ आने के लिए लगातार पूछताछ कर रहे हैं। उम्मीद है कि इस बार यात्रा आपदा से पहले की स्थिति में आ जाएगी।

अब तक बदरीनाथ धाम पहुंचे यात्री

मई, तीन लाख 78 हजार 154

जून, दो लाख 22 हजार

जुलाई, 54 हजार 315

अगस्त, 30 हजार 115

सितंबर, 70 हजार 654 (अब तक)

कुल, सात लाख 57 हजार

बीते वर्षों में यात्रा की स्थिति

2016, छह लाख 24 हजार

2015, तीन लाख 59 हजार

2014, एक लाख 80 हजार

2013, चार लाख 97 हजार

2012, 10 लाख

2011, नौ लाख 30 हजार

2010, नौ लाख 16 हजार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here