चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने राज्य में मोटर व्हीकल टैक्स की दरों में भारी बढ़ोतरी कर दी है। ऐसे में अब निजी सफर और भारी वाहनों से माल ढुलाई का काम महंगा होने जा रहा है। अभी तक भारी वाहनों की कीमत के हिसाब से प्रतिशत के आधार पर टैक्स वसूल किया जाता था, लेकिन नई व्यवस्था के तहत राज्य सरकार ने अब एकमुश्त टैक्स दरें कर दी हैैं। इन टैक्स दरों में 500 रुपये से ढ़ाई हजार रुपये की बढ़ोतरी हुई है।

राज्य में चलने वाले वाहनों को चुकाने होंगे हर माह ढाई हजार रुपये तक अधिक

मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में हरियाणा मोटरयान कराधान अधिनियम (2016) में टैक्स की दरों को बदलने को मंजूरी प्रदान की गई है। बता दें कि प्रदेश सरकार रोड टैक्स और पैसेंजर टैक्स 1 अप्रैल से खत्म कर चुकी है और इसके स्थान पर भारी वाहनों पर मोटर व्हीकल टैक्स लिया जा रहा है। छह माह के अंतराल के बाद सरकार ने मोटर व्हीकल टैक्स की दरों में बढ़ोतरी की है।

स्टेज कैरिज स्कीम 2016 के तहत चालक को छोड़कर 32 सीटों तक छह हजार रुपये मासिक, 33 से 39 सीटों वाले वाहनों पर नौ हजार और 40 व इससे अधिक सीटों के लिए 12 हजार रुपये प्रतिमाह टैक्स निर्धारित किया गया है। शिक्षण संस्थानों के मामले में साधारण बस के लिए 6 से 12 सीटों तक तीन हजार रुपये प्रतिवर्ष, 13 से 32 सीटों तक पांच हजार रुपये और 33 या इससे अधिक सीटों के लिए सात हजार रुपये प्रतिवर्ष टैक्स देना होगा।

वातानुकूलित बसों के लिए 6 से 12 सीटों तक छह हजार रुपये प्रतिवर्ष, 13 से 32 सीटों तक 10 हजार रुपये और 33 व अधिक सीटों के लिए 15 हजार रुपये प्रतिवर्ष टैक्स देना होगा। अन्य राज्यों के वाहनों के हरियाणा में प्रवेश एवं संचालन पर तीन सीट तक वाले दुपहिया या तिपहिया वाहनों से 25 रुपये प्रतिदिन एवं 300 रुपये प्रतिमाह लिए जाएंगे।

चार से छह सीटों वाले चार पहिया वाहनों के लिए 100 रुपये प्रतिदिन एवं 1,200 रुपये प्रतिमाह, सात से आठ सीटों वाले वाहनों के लिए 250 रुपये प्रतिदिन एवं 3,000 रुपये प्रतिमाह और 9 से 12 सीट वाले वाहनों के लिए 500 रुपये प्रतिदिन एवं 6,000 रुपये प्रतिमाह टैक्स लिया जाएगा।

स्लीपर बस (साधारण) के लिए टैक्स की दर 1,800 रुपये प्रतिदिन एवं 39,000 रुपये प्रतिमाह और स्लीपर बस (वातानुकूलित) के लिए 2,500 रुपये प्रतिदिन एवं 55,000 रुपये प्रतिमाह होगी। स्कूल द्वारा प्रयोग किए जाने वाले कांट्रेक्ट कैरिज (साधारण) के मामले में कर की दर 13 से 32 सीटों तक 9 हजार रुपये, 33 से 42 सीटों तक 10,500 रुपये और 43 व अधिक सीटों वाले मोटर वाहन के लिए 13,200 रुपये प्रतिमाह होगी। विशेष प्रायोजन वाले वाहनों के मामले में कर की दर 500 रुपये प्रतिदिन और 11,000 रुपये प्रतिमाह होगी।

राज्यों के स्टेज कैरिज के मामले में साधारण बस के लिए मासिक भुगतान छह रुपये प्रति किलोमीटर, साधारण एसी बस के लिए मासिक भुगतान सात रुपये प्रति किलोमीटर, डीलक्स/लग्जरी एसी बस (40 सीट) के लिए मासिक भुगतान 10 रुपये प्रति किलोमीटर और डीलक्स/लग्जरी एसी बस (41 तथा अधिक सीटें) के लिए मासिक भुगतान 13 रुपये प्रति किलोमीटर होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here