बढ़ती उम्र अक्सर कई बीमारियों और समस्याओं की वजह बन जाती है। कई बार ऐसी स्थितियां पैदा हो जाती हैं कि घरवालों को लगता है कि बुजुर्ग पागल हो गए हैं या फिर उन्हें जानबूझ कर परेशान कर रहे हैं, जबकि असल में वे बीमार होते हैं और उन्हें सही देखभाल और प्यार की जरूरत होती है। आज ऐसी ही 2 बीमारियों के बारे आपको जानकारी दे रहे हैं, जिससे बुजुर्गों और घरवालों को अच्छी-खासी दिक्कत होती है।

डिमेंशिया
अगर किसी की याददाश्त इतनी कमजोर हो गई हो कि उसका असर रोजाना के काम पर पड़ रहा हो, मसलन वह भूल जाता हो कि कौन-सा महीना चल रहा है, किस शहर में रह रहा है, खाना खाया है या नहीं तो वह डिमेंशिया से पीड़ित हो सकता है। इस बीमारी में दिमाग के कुछ खास सेल्स खत्म होने लगते हैं, जिससे उस शख्स की सोचने-समझने की क्षमता कम हो जाती है और बर्ताव में भी बदलाव आ जाता है। डिमेंशिया को दो कैटिगरी में बांटा जा सकता हैः एक, जिसका बचाव या इलाज मुमकिन है और दूसरा उम्र के साथ बढ़ने वाला।

पहली कैटिगरी में ब्लड प्रेशर, डायबीटीज, स्मोकिंग, ट्यूमर, टीबी, स्लीप एप्निया, विटमिन की कमी आदि से होनेवाला डिमेंशिया आता है तो दूसरी कैटिगरी में अल्टशाइमर्स, फ्रंटोटेंपोरल डिमेंशिया (FTD) और वस्कुलर डिमेंशिया आता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here