डिजिटल ट्रांजैक्शन बढ़ाने में लगी सरकार के लिए यह खबर राहत देने वाली हो सकती है कि देश में क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल में बढ़ोतरी हो रही है। क्रेडिट ब्यूरो ऑफ इन्फर्मेशन फर्म द्वारा ग्लोबल रिसर्च प्रवाइडर यूगव के साथ मिलकर करवाए गए एक सर्वेक्षण के मुताबिक शहरी क्षेत्रों के आधे से अधिक क्रेडिट कार्ड धारक एक साल पहले के मुकाबले अब कार्ड का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। इसी साल 13 से 18 जुलाई के बीच करवाए गए इस सर्वेक्षण के अनुसार करीब 19 फीसदी उपभोक्ताओं ने जल्दी ही क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करने की तैयारी दिखाई। सर्वे की यह रिपोर्ट रिजर्व बैंक के उन आधिकारिक आंकड़ों से भी मेल खाती है जिनके मुताबिक पिछले साल के मुकाबले इस साल जुलाई में क्रेडिट कार्डों में 32.5 फीसदी का इजाफा दर्ज किया गया है। यह रिपोर्ट देशवासियों के विभिन्न तबकों में क्रेडिट कार्ड को लेकर अलग-अलग तरह की प्राथमिकताओं को भी रेखांकित करती है। मसलन 59 फीसदी क्रेडिट कार्ड धारक बिलों के भुगतान जैसे कार्यों में इसका इस्तेमाल करते हैं जबकि 53 फीसदी के लिए यह बड़ी खरीदारी के काम आता है।

गौर करने की बात यह भी है कि 18 साल से 24 साल की उम्र सीमा वाली युवा आबादी के लिए क्रेडिट कार्ड ज्यादा उपयोगी इसलिए है क्योंकि उसे कैश साथ में लेकर घूमना सुविधाजनक नहीं लगता। पर 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के मामले में वजह अलग है। वे क्रेडिट कार्ड का ज्यादा इस्तेमाल इसलिए करते हैं कि उन्हें तुरंत पैसे नहीं देने पड़ते। बहरहाल, क्रेडिट कार्ड का ज्यादा इस्तेमाल करने का मतलब अनिवार्य रूप से यह नहीं माना जा सकता कि वे स्मार्ट यूजर हो गए हैं। यही सर्वे बताता है कि 29 फीसदी लोगों ने क्रेडिट कार्ड के जरिए अपनी तय सीमा से ज्यादा खर्च कर डाला। ऐसे ही 20 फीसदी लोगों ने माना कि बिल का भुगतान करने में उन्होंने जितना सोचा था उससे कहीं ज्यादा वक्त लग गया। पर यह बड़ी समस्या नहीं है। इस्तेमाल के साथ लोगों की इसमें कुशलता भी बढ़ती जाएगी। ज्यादा बड़ी जरूरत यह है कि लोग ज्यादा से ज्यादा संख्या में डिजिटल ट्रांजैक्शन की ओर आकर्षित हों। मगर इसके लिए उन्हें मजबूर करने के बजाय उन्हें प्रोत्साहित करने वाले कदमों पर ही ध्यान दिया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here