गुरुग्राम। प्रद्युम्न की बहन विधि ने रेयान इंटरनेशनल स्‍कूल में पढ़ने से इंकार कर दिया है। वि‍धि के आंख के आंसू अभी थमे नहीं है। पिता वरुण ठाकुर भी असमंजस की स्थिति में हैं। अभी वह भी बेटे की मौत के सदमे से उबर नहीं पाए हैं। हालांकि बेटे प्रद्युम्न की हत्या के बाद वरुण ठाकुर अब बेटी विधि को रेयान इंटरनेशनल स्कूल में नहीं पढ़ाना चाहते हैं।

वे इतने सदमे व गुस्से में हैं कि विधि की टीसी लेने भी स्कूल नहीं जाना चाहते। पिता ने बेटी के लिए सुरक्षित स्कूल की तलाश शुरू कर दी है। भोंडसी स्थित डीपीएस में उन्होंने बेटी को पढ़ाने के लिए आवेदन भी कर दिया है। हालांकि वे अन्य स्कूल भी देख रहे हैं। कई स्कूल प्रबंधन ने तो रेयान से नाम कटाकर आने वाले बच्चों को अपने यहां केवल मासिक फीस पर ही एडमीशन करने के दावे भी किए हैं।

आठ सितंबर की सुबह भोंडसी स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात वर्षीय मासूम प्रद्युम्न की बाथरूम में चाकू से गला काट हत्या कर दी गई थी। हत्या का आरोप बस के हेल्पर अशोक पर लगा था उसे पुलिस ने जेल भेज दिया था। अब मामले की जांच सीबीआइ कर रही है।

इसी स्कूल में प्रद्युम्न की बड़ी बहन पांचवी कक्षा में पढ़ती थी। घटना के बाद से वह स्कूल नहीं जा रही है। विधि के पिता वरुण ने अपने घर के पास ही मारुतिकुंज रोड पर केआइआइटी, भोंडसी में लेबरनम स्कूल, रिठौज रोड पर आरबीएसएम व मारुति कुंज स्थित डीपीएस का जायजा लिया है। उनका मन बेटी को डीपीएस में पढ़ाने का है। उन्होंने स्कूल प्रबंधन को प्रार्थना-पत्र भी दिया है।

नीरजा की नियुक्ति का विरोध

प्रद्युम्न की हत्या के समय भोंडसी स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल की कार्यवाहक प्रिंसिपल रहीं नीरजा बत्रा की नियुक्ति सेक्टर चालीस स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल में करने का विरोध स्कूल के अभिभावकों ने करना शुरू कर दिया है।

सोमवार को स्कूल प्रबंधन व अभिभावकों के बीच बैठक हुई। जिसमें अभिभावकों ने कहा कि जिस स्कूल में बच्चे की हत्या हो गई वहां के स्कूल प्रभारी को इस स्कूल में क्यों भेजा गया? अभिभावक सुरेश ने कहा जब उस स्कूल में जिम्मेदारी नहीं निभा सकीं तो यहां पर उन्हें क्यों लाया गया है?

प्रद्युम्न के पिता वरुण ने भी कहा कि नीरजा की नियुक्ति फिर से स्कूल में कैसे की जा सकती जब वह अपनी जिम्मेदारी को सही से नहीं निभा सकीं। अभी तो जांच सीबीआइ कर रही है। क्या पता पुलिस की थ्योरी से उलट केस में नतीजा आए।

नीरजा पर सीधे तौर पर कोई आरोप नहीं

बता दें कि छात्र की हत्या के बाद नीरजा को स्कूल प्रबंधन ने निलंबित कर दिया था। भोंडसी स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल के प्रशासक की जिम्मेदारी उपायुक्त विनय प्रताप सिंह के पास है। पुलिस जांच में नीरजा पर सीधे तौर पर कोई आरोप नहीं पाए गए जिसके बाद उपायुक्त ने उनकी बहाली करने को कहा था। वहीं सेक्टर चालीस स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल प्रबंधन से जुड़े एक अधिकारी ने कहा नीरजा यहां रहेंगी या नहीं यह स्कूल प्रबंधन अभिभावकों की राय लेकर ही तय करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here