मोहाली। डेरा सच्चा सौदा प्रकरण में एक महीने से ज्यादा से पुलिस को वांछित हनीप्रीत को शुक्रवार को मोहाली से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तारी के बाद श्रेय लेने के लिए पंजाब और हरियाणा आपस में उलझ गए। सूत्रों के मुताबिक पंजाब पुलिस ने हनीप्रीत को हिरासत में लिया, जिसे मंगलवार दोपहर बाद एयरपोर्ट रोड से पकड़ा गया।

इसके बाद हनीप्रीत को मोहाली कोर्ट में पेश करने की तैयारी की गई, लेकिन इतने में पंचकूला पुलिस को इसकी भनक लग गई। मोहाली और पंचकूला के अधिकारी आपस में उलझ गए। मामला दोनों राज्यों के डीजीपी तक पहुंच गया। जिसके बाद इस बात पर सहमति बनी कि हनीप्रीत की गिरफ्तारी मोहाली से दिखाई जाए।

एसएसपी कुलदीप सिंह चहल ने इस बात की पुष्टि की कि हनीप्रीत को मोहाली से पकड़ा गया। लेकिन गिरफ्तार किस जिला पुलिस ने किया, इस पर कहा कि बाद में बात करते हैं। गिरफ्तारी होनी थी, हो गई।

मोहाली की सड़कों पर दिया इंटरव्यू

हरियाणा पुलिस को चकमा देकर हनीप्रीत सोमवार रात से ही जीरकपुर व मोहाली के क्षेत्र में मौजूद थी। यहीं पर उसने एक टीवी चैनल को भी साक्षात्कार दिया था। मंगलवार दोपहर पंजाब पुलिस ने मीडिया में एक खबर फैलाई कि उनकी एक टीम ने हनीप्रीत को हिरासत में ले लिया है।

सूत्रों की मानें तो मोहाली पुलिस ने पंचकूला पुलिस से दो टूक कहा कि वे हनीप्रीत को अदालत में पेश करेंगे और हरियाणा पुलिस वहां से रिमांड के माध्यम से उसे हासिल करे। इसके बाद हरियाणा पुलिस के आलाधिकारियों ने पंजाब पुलिस के आलाधिकारियों के साथ संपर्क किया। करीब आधे घंटे तक पंजाब व हरियाणा को आपस में सहमत होने में लग गया। इसके बाद हरियाणा पुलिस ने हनीप्रीत को जीरकपुर में पटियाला मार्ग पर स्थित एक रिसोर्ट से गिरफ्तार किया।

आंख-मिचौनी खेलती रही हनीप्रीत

25 अगस्त की हिंसा के बाद हनीप्रीत भूमिगत हो गई थी। हरियाणा पुलिस व हनीप्रीत के बीच पिछले 38 दिनों से आंख-मिचौनी का खेल चल रहा था। 27 व 28 अगस्त को हनीप्रीत के राजस्थान के हनुमानगढ़ में होने का पता चला। 30 अगस्त को हनीप्रीत के राजस्थान के संगरिया में होने के बारे में पता चला। हरियाणा पुलिस की टीमें लगातार छापेमारी करती रहीं, लेकिन पुलिस को कहीं कोई सुराग नहीं मिला।

हनीप्रीत के नेपाल होने की सूचना भी मिली और नेपाल के रेडियो व टीवी चैनलों पर भी हनीप्रीत के बारे में खबरें जारी की गईं, लेकिन वहां भी पुलिस को कोई कामयाबी नहीं मिली। पिछले एक माह के घटनाक्रम में हनीप्रीत हर बार पुलिस को चुनौती देती रही। पुलिस जब तक हनीप्रीत के पास पहुंचती थी तो वह अपना ठिकाना बदल लेती थी।

मोहाली में कड़ी नाकाबंदी

मोहाली में मंगलवार को कड़ी नाकाबंदी थी। किसी भी महिला को मुंह पर चुनरी लपेट कर जाने नहीं दिया जा रहा था। पूरे जिले में 100 के करीब नाके लगे थे। यह सब इसलिए किया गया था क्योंकि साक्षत्कार के दौरान मोहाली पुलिस को ये पता चल गया था कि यह मोहाली में शूट हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here