मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि प्रसिद्ध नागराजा धाम सेम-मुखेम को पर्यटन मेले के रूप में विकसित किया जाएगा। इस बीच, सीएम ने 42 करोड़ की विकास योजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण भी किया।

मुख्यमंत्री रावत रविवार को टिहरी जिले के प्रतापनगर इलाके में सेम-मुखेम मेले के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रतापनगर क्षेत्र को जोड़ने वाले डोबरा-चांटी पुल के निर्माण के लिए 76 करोड़ की धनराशि स्वीकृत की जा चुकी है, तय समय पुल का निर्माण पूरा करा लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि टिहरी जिले में दस नए टेली मेडिसियन एवं रोडियोलॉजी स्वास्थ्य केन्द्र स्थापित किए गए हैं, आने वाले समय में जनता को इनका लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री ने लंबगांव-मदननेगी पिपलडाली मोटर मार्ग पर रोडवेज की बस संचालित करने, मूडथात के तीन किमी सड़क की स्वीकृति, कोटी रौल्या उजाड़ गांव तक तीन किमी सड़क की स्वीकृति, खोला-पथियाणा मोटर मार्ग का डामरीकरण, गैरी ब्राह्मणों तक मोटर मार्ग की स्वीकृति तथा पनियाला सोलर पंपिंग योजना तथा लंबगांव नगर पंचायत भवन का निर्माण करने की घोषणा भी की। सीएम ने कहा कि वह कोई नई घोषणायें नहीं करेंगे, लेकिन जिन योजनाओं की घोषणा हुई हैं, उन पर त्वरित गति से कार्य प्रारम्भ होंगे।

विधायक विजय सिंह पंवार ने मुख्यमंत्री को क्षेत्रीय की समस्याओं से संबंधित 28 सूत्रीय मांग पत्र सौंपा। जिला पंचायत अध्यक्षा सोना सजवाण, पूर्व विधायक महावीर रांगड़, ब्लॉक प्रमुख रेशमा बगियाल, जिला अध्यक्ष संजय नेगी और मन्दिर समिति के अध्यक्ष भीम सिंह समेत काफी संख्या में लोग कार्यक्रम में मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here