देहरादून, ‘कदम-कदम बढ़ाए जा, खुशी के गीत गाए जा..।’ आत्मविश्वास व जोश से लबरेज 441 जेंटलमैन कैडेट्स ने पासिंग आउट परेड के रैतिक पूर्वाभ्यास में कदम से कदम मिलाया। आइएमए के ड्रिल स्क्वायर पर परेड की। अंतिम पग भरा तो हेलीकॉप्टरों ने इन पर पुष्प वर्षा की। मौका था डिप्टी कमान्डेंट परेड का। आइएमए के डिप्टी कमांडेंट एवं मुख्य प्रशिक्षक मेजर जनरल जेएस नेहरा ने परेड की सलामी ली।

भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) से शनिवार को 441 कैडेट पास आउट होंगे। इसमें 363 भारतीय सेना का हिस्सा बनेंगे, जबकि अन्य 78 विदेशी कैडेट हैं। इन कैडेट्स ने डिप्टी कमांडेंट परेड में कदमताल की।

इस मौके पर डिप्टी कमांडेंट मेजर जनरल जेएस नेहरा ने कैडेट्स में जोश भरते कहा कि देश का प्रहरी होने से ज्यादा गर्व की बात कुछ और नहीं है। कड़े प्रशिक्षण से गुजरकर कैडेट अब एक ऐसी दुनिया का हिस्सा बन रहे हैं, जहां नित नई चुनौतियों से सामना होगा।

मेजर जनरल नेहरा ने कहा कि अच्छे आचरण व पराक्रम के साथ योद्धा की जिम्मेदारियां निभाएं। दुश्मन से निपटने के लिए तकनीकि रूप से भी दक्ष होने की जरूरत है। एक सैन्य अफसर की अपने हरेक जवान के प्रति भी जिम्मेदारी बनती है। उसके भरोसे पर खरा उतरने की कोशिश करें।

विदेशी कैडेट को उन्होंने प्रशिक्षण में सकारात्मक दृष्टिकोण के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि विदेशी कैडेट्स ने यहां न सिर्फ जीवनभर के लिए दोस्त बनाए हैं, बल्कि अपने देश का भी बहुत अच्छे ढंग से प्रतिनिधित्व किया। इस दौरान स्कूली बच्चे भी परेड देखने पहुंचे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here