लुधियाना। नववर्ष का आगाज कड़ाके की ठंड के साथ हुआ। पहाड़ों जैसी ठंड ने ठिठुरन बढ़ा दी। बठिंडा शिमला से भी ठंडा रहा। सोमवार को न्यूनतम तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि शिमला का तापमान 2.7 डिग्री सेल्सियस रहा। बठिंडा के न्यूनतम तापमान में दो डिग्री सेल्यिस की गिरावट दर्ज की गई। औद्योगिक नगरी लुधियाना भी खूब ठिठुरी। सोमवार को यहां न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क गया, जोकि इस सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा। राज्य भर में अधिकतम तापमान में भी तीन डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई है।
नववर्ष की सुबह और शाम कोहरे में लिपटी रही। सुबह साढ़े दस बजे तक हाड़ कंपा देने वाली ठंड के बीच घने कोहरे ने जनजीवन पर असर डाला। सड़कों पर इस कदर घना कोहरा छाया रहा कि थोड़ी दूर पर पैदल आते लोग और वाहन तक दिखाई नहीं दे रहे थे। कई इलाकों में तो विजिबिलिटी 30 मीटर से भी कम दर्ज की गई। इस वजह से सड़कों पर वाहन चालकों को आवागमन में काफी परेशानी हुई। हाइवे पर वाहन रेंगते हुए दिखाई दिए। दोपहर को धूप निकली तो लोगों ने राहत महसूस की लेकिन शाम ढली तो कोहरे ने फिर वापसी की। शाम साढ़े पांच बजे के बाद से एकाएक हर तरफ कोहरा छा गया और ठिठुरन बढ़ गई।
ठंड की बात करें तो सोमवार को महानगर ने पहाड़ी इलाकों को भी मात दी। हिमाचल व जम्मू-कश्मीर के कई जिलों की तुलना में बठिंडा व लुधियाना अधिक ठंडा रहा। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार मंगलवार को भी सुबह के समय घना कोहरा पड़ेगा और दिन में बादल छाएं रहेंगे। छह जनवरी तक कड़ाके की सर्दी का सामना करना होगा।
इंडिया मैट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट चंडीगढ़ के अनुसार बठिंडा सबसे ठंडा रहा। यहां का न्यूनतम तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस रहा। जोकि शिमला (2.7) से भी कम था। लुधियाना में सोमवार को जहां न्यूनतम तापमान 4.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, वहीं हिमाचल के ऊना में न्यूनतम तापमान 5.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बिलासपुर में न्यूनतम तापमान 5.1 डिग्री सेल्सियस, धर्मशाला में 6.0 डिग्री और हमीरपुर में न्यूनतम तापमान 6.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसी तरह नाहन में न्यूनतम तापमान 6.6 डिग्री, जम्मू में 6.7 डिग्री, कटड़ा में 7.0 डिग्री जबकि बनिहाल में न्यूनतम तापमान 4.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
एयरपोर्ट स्टेशन मैनेजर सुखदेव सिंह के मुताबिक लुधियाना से दिल्ली को जाने वाली फ्लाइट सोमवार को जीरो विजिबिलिटी के चलते उड़ान नहीं भर सकी। ऐसे में यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। ज्ञात हो कि लुधियाना से दिल्ली फ्लाइट को लेकर अच्छा रिस्पांस मिल रहा है और भारी संख्या में यात्री बुकिंग करवा रहे हैैं लेकिन कम विजिबिलिटी के चलते कई बार उड़ान रद की जा रही है। शनिवार को भी विजिबिलिटी कम होने से जहाज ने उड़ान नहीं भरी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here