देहरादून, [राज्य ब्यूरो]: प्रदेश सरकार गुजरात की प्रसिद्ध काकड़िया झील की तर्ज पर उत्तराखंड की झीलों को विकसित करने की तैयारी कर रही है। गुजरात दौरे के दौरान काकड़िया झील का निरीक्षण करने के पश्चात मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसी की तर्ज पर प्रदेश की टिहरी, नैनीताल, नानक सागर, कालागढ़, सूर्याधार झील परियोजना व सौंग बांध विकसित करने के लिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे उत्तराखंड में पर्यटन को और बढ़ावा मिल सकेगा।

मुख्यमंत्री रावत ने गुजरात दौरे के दौरान अहमदाबाद में काकड़िया झील का निरीक्षण किया। तीन किलोमीटर की परिधि में फैली इस झील में पर्यटकों के लिए एक एक्टिविटी पार्क बनाया गया है। यहां बच्चों के लिए विशेष तौर से बाल वाटिका बनाई गई है। इसके साथ ही एक बोट क्लब भी बनाया गया है, जहां पर्यटक बोटिंग का लुत्फ उठाते हैं। यहां एक किड सिटी भी है, जिसमें बच्चों को कॅरियर कौशल विकास में मदद की जाती है।

झील के आसपास के पर्यटन स्थलों के दर्शन के लिए एक ट्रेन भी चलाई जाती है। इसके अलावा दिसंबर के अंतिम सप्ताह में यहां कार्निवाल का भी आयोजन किया जाता है। मुख्यमंत्री ने एशिया के सबसे बड़े रेपटाइल पार्क का भी भ्रमण किया और इसके रखरखाव के विषय में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने साबरमती रिवर फ्रंट में आयोजित होने वाली पुष्प प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड में पर्यटन विकास की अपार संभावनाएं है। यहां पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नए प्रयासों की जरूरत है। गुजरात भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री के साथ मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह व सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर, औद्योगिक सलाहकार डॉ. केएस पंवार और ओएसडी अभय रावत भी शामिल रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here