जनवरी का माह खत्म हो गया लेकिन लोगों को इस बात की शिकायत रह गई कि साल के शुरुआती महीने में जिस तरह की ठंड पड़नी चाहिए वैसा एहसास नहीं हुआ। इसका कारण क्या हो सकता है। मौसम विभाग के मुताबिक, उत्तर भारत में इस महीने के दौरान कम बारिश और बर्फबारी के कारण प्रतिदिन का औसत तापमान सामान्य से 1.7 डिग्री ज्यादा रहा। इसके साथ ही दिल्ली में जनवरी का माह पिछले 12 सालों में सबसे गर्म रहा।

इस साल जनवरी में अधिकतम औसत तापमान 22.2 डिग्री सेल्सियस था, जो कि सामान्य से अधिक था। महीने के 23 दिनों तक दिन में तापमान सामान्य से अधिक रहा। इससे पहले शहर में 2006 में जनवरी का माह सबसे ज्यादा गर्म रहा था। उस दौरान अधिकतम तापमान 22.4 डिग्री से ज्याक्षेत्रीय मौसम विभाग कार्यालय के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा, उत्तर भारत में इस पूरे महीने काफी कम बारिश और बर्फबारी हुई। इसके परिणामस्वरूप जनवरी माह में दिल्ली में आसमान साफ दिखा जिसके कारण तापमान बढ़ा। उन्होंने कहा कि, उत्तर दिशा से आने वाली हवाएं बर्फीली ना होने के कारण बर्फबारी भी नहीं हुई। बता दें कि बर्फीली हवाओं की वजह से ही ठंड आती है।

हाल के वर्षों में मौसम की स्थिति पर नजर डालें तो पता चलता है कि जनवरी माह कितना गर्म रहा था। 2015 में जनवरी में अधिकतम औसत तापमान 17.9 डिग्री सेल्सियस था। पिछले दो सालों के जनवरी माह में भी तापमान सामान्य से ज्यादा गर्म 21.6 और 21.1 रहा। पिछले 25 सालों में सबसे दा था। ऐसा 25 सालों में पहली बार हुआ था।ठंडा जनवरी वर्ष 2003 में रहा उस दौरान अधिकतम औसत तापमान 17.6 डिग्री था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here