एमएस होटल की बिल्डिंग ने हादसे के संकेत पहले ही दे दिए थे। बिल्डिंग में ही मोटर पंप की दुकान चलाने वाले व्यापारी ने खुलासा किया कि तीन दिन से होटल मालिक को बता रहे थे कि दीवारें हिल रही हैं। इसे ठीक कराएं। इस पर उसने जवाब दिया कि रविवार को देखेंगे। शनिवार दोपहर (सात घंटे पहले ही) बिल्डिंग के पिलर जमीन में धंस गए थे। दोबारा होटल मालिक को फोन किया, लेकिन उसने सुध नहीं ली।

रात को एक दीवार भी ढह गई। उसके दस मिनट बाद पूरी बिल्डिंग जमींदोज हो गई। होटल के नीचे पाटीदार ट्रेडर्स (मोटर पंप दुकान) के संचालक नीलेश पाटीदार ने बताया होटल मालिक शंकर परवानी को बिल्डिंग की हालत के बारे में कई बार चेताया था। छज्जा भी गिर गया था। परवानी बुलाने पर भी नहीं आता था। जब होटल आता था तो तुरंत निकल जाता था। पिलर धंसने के बाद भी फोन पर संपर्क किया, लेकिन परवानी ने फिर टाल दिया। पाटीदार खतरा भांपकर जल्द ही दुकान बंद कर घर चले गए थे। घर पहुंचने के आधा घंटे बाद उन्हें फोन आया कि बिल्डिंग गिर गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here